ब्रह्माकुमारी शिवानी के अनमोल विचार

  1. बदलाव की तरफ पहला कदम स्वीकार करना है। एक बार आप खुद को स्वीकार कर लेते हैं आप बदलाव के दरवाजे खोल देते हैं। आपको बस यही करना है। बदलाव कुछ ऐसा नही है जिसे आप करते हैं, ये कुछ ऐसा है जिसकी आप अनुमति देते हैं।

  2. हीलिंग का ये मतलब नहीं कि कभी पीड़ा थी ही नहीं। इसका मतलब है कि अब वो पीड़ा हमारे जीवन को नियंत्रित नहीं करती।

  3. सत्य एक डेबिट कार्ड है- पहले कीमत चुकाएं और बाद में आनंद लें। झूठ एक क्रेडिट कार्ड है- पहले आनंद लें और बाद में कीमत चुकाएं।

  4. कुछ भी संयोग नहीं है। हर एक चीज जो आप अनुभव कर रहे हैं वो ठीक उसी तरह होनी थी जैसी वो हो रही है।पाठ सीखें। कृतज्ञ रहें

  5. हम जो महसूस करते हैं उसके लिए लोग या परिस्थितियां जिम्मेदार नहीं हैं। वे तो बस स्टीम्युलस हैं, हमारे विचार,एहसास और व्यवहार हमारी प्रतिक्रियाएं हैं जिन्हें हम खुद निर्मित करते और चुनते हैं।

  6.  यदि आप एक मुट्ठी नमक एक गिलास पानी में डाल दें तो वो खारा लगेगा। यदि आप एक मुट्ठी नमक एक झील में डाल दें तो भी उसका पानी मीठा लगेगा। इसलिए, इसी तरह, अपने पीड़ा को परिवर्तित करने की क्षमता बहुत हद्द तक तय करती है कि हम कितना कष्ट झेलते हैं। यदि हमारा ह्रदय कसा हुआ है और हमारे अहंकार तक सीमित है तो हम ज्यादा भुगतेंगे बजाये तबके जब हमारा ह्रदय हमारी और बाकी लोगों की पीड़ा को अन्तर्निहित करने को तैयार है।

  7. अगर भगवान् हमारा भाग्य लिखते तो वो सबसे बढ़िया भाग्य होता। हमारा भाग्य हमारे कर्म, हमारी मुक्त इच्छा द्वारा निर्मित होता है। भगवान् की इच्छा से नहीं।

  8. आज के समय में ज्यादातर लोग सिर्फ इसलिए दुखी और असफल है की वे अपने अकल के उपयोग के बजाय दुसरो की नकल ज्यादा करते है

  9.  अमीर बनने के सिर्फ दो ही तरीके है आप जो भी चाहते है उसे पाने की भी कोशिश करे और जो आपको मिल गया है उसमे खुश रहने का प्रयास करे |

  10.  सत्य एक डेबिट कार्ड की तरह है जिसका पहले भुगतान करना है फिर आनन्द लेना है जबकि झूठ एक क्रेडिट कार्ड की तरह है जिसमे पहले तो आनन्द लेना है फिर उसका हमे भुगतान करना है

  11.  अगर आप किसी की खुशिया लिखने वाले पेंसिल नही बन सकते है तो कम से कम एक अच्छा सा इरेज़र तो बन ही सकते है जो उनके दुखो को मिटा सके

  12.  आपके अलावा आपके खुशियों का कोई इंचार्ज नही है

  13.  किसी भी चीज का उदाहरण देना बहुत सरल है लेकिन किसी के लिए खुद उदाहरण बनना बहुत ही मुश्किल है

  14.  भाग्यशाली वे लोग नही होते है जिन्हें सबकुछ अच्छा मिलता है बल्कि वे भाग्यशाली होते है जिन्हें जो भी मिलता है उसे अच्छा बना लेते है

  15.  जब तक आप खुद दुखी नही होना चाहते है तब तक कोई आपको दुखी नही कर सकता है

  16.  जो लोग सिर्फ आपको जरूरत के समय याद करते है उनके लिए काम जरुर आना चाहिए……क्यूकी अँधेरे के समय ही रौशनी खोजी जाती है और वह रौशनी आप हो

  17.  घमंड की सबसे बुरी बात है की आप यह महसूस ही नही कर सकते है की आप गलत भी हो

  18.  सिर्फ सपने देखने से कुछ नही होता है सफलता हमेसा प्रयासों से ही हासिल होती है

  19.  बदला लेकर नही खुद बदलकर तो देखिये

  20.  दुसरो की नजरो में अच्छा बनने से है की खुद की नजरो में अच्छा बने

  21.  छोटी सी लडाई से हम अपना प्यार खत्म कर लेते है इससे अच्छा है की प्यार से हम अपनी लड़ाई ही खत्म कर ले

  22.  क्रोध और गुस्सा इन्सान को तभी आता है जब वह अपने आपको कमजोर और हारा हुआ मान लेता है

  23.  बुराई कितनी भी बड़ी क्यू न हो जाए अच्छाई के सामने हमेसा छोटी ही रहती है

  24.  अगर किसी बच्चे को उसके मनपसंद चीज को नही देते है तो वह कुछ समय के लिए रोयेगा मगर उसे यदि संस्कार नही देते है तो वह फिर जीवन भर रोयेगा

  25. किसी को अपनी वाणी से कष्ट मत पहुचाहिये, आप में भी गलतिया है और दुसरो के पास भी जुबान है तो सावधान रहिये

  26.  हम जैसा दुसरो को देते है वही लौटकर हमारे पास आता है इसलिए आप यदि लोगो को दुवाये देंगे तो किसी न किसी रूप में दुवाये ही लौटकर जरुर आएगी

  27. सकरात्मक सोच से व्यक्ति सदा तनाव से मुक्त होकर प्रसन्नचित रहता है

  28.  हम नेगेटिव बातो से जितना दूर रहेगे उतना ही ख़ुशी के नजदीक रहेगे

  29. पाप करना नही पड़ता है हो जाता है और पूण्य होता नही है करना पड़ता है|

  30.  मनुष्य सुबह से शाम तक काम करके उतना नही थकता है जितना क्रोध और चिंता से एक क्षण में ही थक जाता है|

  31.  जीवन और मृत्यु के बीच एक छोटा सा अन्तराल है इसलिए इस अन्तराल में खुश करिए, जीवन के प्रत्येक क्षण का आनंद ले |

  32. एक अच्छे इन्सान की यही पहचान है की वह किसी में बुराई की तुलना में अच्छाई को ज्यादा देखता है |

     

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *